Skip to main content
Estd: 2000
Affilaiated To V B S P U, Jaunpur
College Code: 0635

निर्देशक सन्देश

आज वैश्वीकरण के युग में सत्य एकमात्र धर्म के रूप में सभी के द्वारा वरेण्य होना चाहिए। सभी के द्वारा सभी देश, काल, परिस्थिति में धारण योग्य सत्य ही श्रेयस्कर है। सच्चे के प्रति प्रेम, संवेदना, प्रशंसा एवं झूठे के प्रति घृणा संवेदनहीनता, असहयोग और निन्दा होनी चाहिए। हमें अपने जीवन में नित्य प्रति सत्य को धारण करने एवं कराने की प्रवृति उत्पन्न करनी पड़ेगी। सत्य को स्वीकार करने से ही पारिवारिक, सामाजिक, राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय समस्याओं का आत्यंतिक हल सम्भव होगा। अतः असतो माँ सद्गमय।

डॉ० रणविजय सिंह 
निदेशक
सुमित्रा  महाविद्यालय  
शेरवाँ-जौनपुर 

 

© Sumitra Mahavidyalaya | Designed By: Shining Softech